फ्रांस में भारत को मिला पहला राफेल, वायुसेना प्रमुख बोले- पाक ने हमें कम आंका

 फ्रांस में भारत को मिला पहला राफेल, वायुसेना प्रमुख बोले- पाक ने हमें कम आंका
भारतीय वायुसेना को फ्रांस में पहला राफेल लड़ाकू विमान मिल गया है. फ्रांस में दसॉल्ट एविएशन की उत्पादन इकाई में बृहस्पतिवार को एयर मार्शल वीआर चौधरी के नेतृत्व वाली टीम ने आरबी01 टेल नंबर वाला राफेल प्राप्त किया. चौधरी ने खुद करीब एक घंटे इस विमान को उड़ाया. 

भारत और फ्रांस के बीच 60 हजार करोड़ रुपये के राफेल सौदे के तहत पहले विमान को भारत की रजामंदी के आधार पर सौंपा जाना था. यह विमान अभी करीब सात महीने तक फ्रांस में रहेगा. इस दौरान इसका ट्रायल होगा. इसके बाद भारत लाया जाएगा.

विमान की टेल आरबी01 नाम अगले वायु सेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया के नाम पर है. भदौरिया ने देश के सबसे बड़े सौदे को अंतिम रूप दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की प्रस्तावित फ्रांस यात्रा के दौरान 8 अक्टूबर को यह विमान वायुसेना के बेड़े से जुड़ जाएगा हालांकि इसे अगले साल मई में भारत लाया जाएगा.

इस विमान को भारत की जरूरत के मुताबिक विशेष हथियारों से लैस किया गया है. सूत्रों के मुताबिक मीटिओर मिसाइल से लैस इस विमान की जद में पूरा पाकिस्तान होगा. इसकी मारक क्षमता पाकिस्तानी लड़ाकू विमान से कहीं अधिक है. 2016 में हल्के लड़ाकू विमान तेजस के बाद वायुसेना के बेड़े में शामिल होने वाला यह पहला लड़ाकू विमान होगा.

भारतीय वायुसेना के 24 पायलटों को मई 2020 तक तीन अलग अलग बैच में भारत का राफेल लड़ाकू विमान उड़ाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा. हालांकि कुछ पायलटों को फ्रांस की वायुसेना के विमानों में प्रशिक्षण पहले भी दिया गया है.



loading...

Related News



सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली खबरे